Bismil – Stole many hearts

One of the many whom we forgot, Ram Prasad Bismil was a man who inspired a man, who inspired millions – Bhagat Singh. The words of Bismil still lingers in our minds “Sarfaroshi ki tamannah … ab hamare dil mein hai…”

A freedom fighter who was involved in the historic Kakori train robbery is what many historians would write. But he stole a million hearts with his words. Born in 1897 at Shahjahanpur, Uttar Pradesh to Muralidhar, Bismil was the name he adopted to write in Urdu.

He teamed with stalwarts like Ashfaqulla Khan, Chandrasekhar Azad, Bhagawati Charan, Rajguru and many more. In order spread awareness about the freedom struggle and gather people’s attention, he published a pamphlet named ‘A Message to My Countrymen’.

On 9th August 1925, Ram Prasad Bismil along with his men involved themselves in the Kakori train robbery. All except Chandrashekhar Azad, were arrested. Ram Prasad Bismil along with others were given capital punishment for the crime committed by the British Government and executed on 19th December 1927.

My efforts to remember him through his words ….

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

ए वतन करता नहीं क्यूँ दूसरा कुछ बातचीत,
देखता हूँ मैं जिसे वो चुप तेरी महफ़िल में है
ऐ शहीद-ए-मुल्क-ओ-मिल्लत, मैं तेरे ऊपर निसार,
अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफ़िल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

वक़्त आने पर बता देंगे तुझे, ए आसमान,
हम अभी से क्या बताएँ क्या हमारे दिल में है
खेँच कर लाई है सब को क़त्ल होने की उमीद,
आशिक़ोँ का आज जमघट कूचा-ए-क़ातिल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

है लिए हथियार दुशमन ताक में बैठा उधर,
और हम तैयार हैं सीना लिये अपना इधर.
ख़ून से खेलेंगे होली गर वतन मुश्किल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हाथ, जिन में हो जुनून, कटते नहीं तलवार से,
सर जो उठ जाते हैं वो झुकते नहीं ललकार से.
और भड़केगा जो शोला सा हमारे दिल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

हम तो घर से ही थे निकले बाँधकर सर पर कफ़न,
जाँ हथेली पर लिये लो बढ़ चले हैं ये कदम.
जिन्दगी तो अपनी मेहमाँ मौत की महफ़िल में है,
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है

यूँ खड़ा मक़्तल में क़ातिल कह रहा है बार-बार,
क्या तमन्ना-ए-शहादत भी किसी के दिल में है?
दिल में तूफ़ानों की टोली और नसों में इन्क़िलाब,
होश दुश्मन के उड़ा देंगे हमें रोको न आज.
दूर रह पाए जो हमसे दम कहाँ मंज़िल में है,

जिस्म भी क्या जिस्म है जिसमें न हो ख़ून-ए-जुनून
क्या लड़े तूफ़ान से जो कश्ती-ए-साहिल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है
देखना है ज़ोर कितना बाज़ू-ए-क़ातिल में है

Jai Hind!